जानिए मल्लिकार्जुन खड़गे की पूरी जीवनी!

मल्लिकार्जुन खड़गे  और  शशि  थरूर  के  बीच मुकाबला हो रहा  है हाला कि  मल्लिकार्जुन  खड़गे  का  पल्ला भारी दिखा  रह

 

दशकों बाद  कांग्रेस  पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का  चुनाव हो रहा  है जिसमें  मल्लिकार्जुन खड़गे  और  शशि  थरूर  के  बीच मुकाबला हो रहा  है हालाँकि  मल्लिकार्जुन  खड़गे  का  पल्ला भारी दिखा  रहा  है क्यूंकि अंदरूनी खबर  है की उनके साथ  गाँधी  परिवार का साथ है  
जैसा  की आप  सभी  को पता  है  की कांग्रेस में वही  होता है जो गाँधी परिवार चाहता है

ऐसे मैं मार्कलिकार्जुन खड़गे  की जीत कन्फर्म मानी जा रही है जिसके लिए आज वोटिंग हो रही है और 19 अक्टूबर को परिणाम घोषित किया जाएगा  
तो चलिए जानते है कांग्रेस  के नए राष्टीय अध्यक्ष  मलिकार्जुन खड़गे  के जीवन के बारें में की आखिर उन्होंने कैसे कांग्रेस जॉइन की और यहाँ तक पहुंचे

मल्लिकार्जुन खड़गे का जन्मकर्नाटक केवारवट्टी के भल्कि तालुक, जिला बिदर में 21 जुलाई 1942 को हुआ था। इनका जन्म एक माध्यम वर्गीय किसान परिवार में हुआ था इनके पिता का नाम  मपन्ना तथा  माता का नाम साईंभवा खड़गे था।मल्लिकार्जुन खड़गे का परिवार बौध धर्म में विश्वास रखता था।

कर्नाटक में ही मल्लिकार्जुन खड़गे  ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा प्राप्त की।मल्लिकार्जुन खड़गे ने वकालत में स्नातक की शिक्षा बीए एलएलबी राजकीय महाविद्यालय, गुलबर्गा से प्राप्त की।  इन्होंने स्नातक में पढ़ते समय ही छात्र राजनीति में भाग लेना शुरू कर दिया था।

मल्लिकार्जुन खड़गे का विवाह राधाबाई खड़गे के साथ 13 मई 1968 को हुआ था।मल्लिकार्जुन खड़गे की पत्नी राधाबाई खड़गे गृहिणी हैं लेकिन वह अक्सर इनके साथ राजनीति में नज़र आती रहती हैं।मल्लिकार्जुन खड़गे और राधा बाई के पांच बच्चे हैं जिनमे से 3 बेटियां और 2 बेटे हैं।मल्लिकार्जुन खड़गे के एक बेटे इन्हीं की तरह राजनेता   हैं और वर्तमान में विधायक भी हैं और इनके 1 बेटे मेडिकल में जुड़े हुए हैं वह एक हॉस्पिटल चलाते हैं।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने अपने राजनैतिक जीवन  की शुरुआत छात्र नेता के रूप में की। जब वह स्नातक की शिक्षा प्राप्त कर रहे थे उस समय उन्होंने अपने कॉलेज में छात्रनेता के रूप में चुनाव लड़ा। शिक्षा पूरी करने के कुछ समय बाद ये कांग्रेस पार्टी से जुड़ गए।साल 1969 में कांग्रेस पार्टी ने इन्हें कर्नाटक राज्य का प्रदेश अध्यक्ष बनाया। इनका रिश्ता शुरुआत से ही कांग्रेस पार्टी और गाँधी परिवार के साथ काफी अच्छा था। इन्होंने कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी को हर कदम पर मजबूत किया।

 साल 1972 में कोंग्रेस पार्टी ने इन्हें कर्नाटक के गुरमितकाल विधानसभा से टिकट दिया और ये चुनाव में खड़े हुए।विधायक के चुनाव में इन्होंने अच्छे अंतराल से जीत दर्ज की। इन्हें नौ बार  गुरमितकाल विधानसभा सीट से टिकट दिया गया और हर बार इन्होंने जीत दर्ज की।मल्लिकार्जुन खड़गे ने कर्नाटक की गुरमीतकाल विधानसभा से साल 1972 से लेकर साल 2009 तक लगातार नौ बार विधायक का चुनाव जीता।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने गुरमितकाल विधानसभा सीट से विधायक रहते हुए कर्नाटक की राज्य सरकार में अलग लगा विभागों में राज्यमंत्री का पद सम्भाला। इस दौरान वह कर्नाटक में सबसे पहली बार साल 1976 से लेकर साल 1978 तक प्राथमिक तथा माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री रहे। इसके बाद ये ग्रामीण विकास और पंचायती राज्य मंत्री रहे।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने कर्नाटक में जल संसाधन एवं परिवहन मंत्री, राजस्व मंत्री, ग्रामीण विकास और पंचायती राज्य मन्त्री, गृह आधारभूत संरचना एवं लघु सिंचाई मंत्री, सहकारिता मध्यम और वृहद उद्योग मंत्री जैसे तमाम पदों को सम्भाला और कर्नाटक राज्य के विकास के लिए ये सदैव तत्पर रहे।

इनका राजनैतिक जीवन यहीं तक नहीं रहा। कांग्रेस में गाँधी परिवार के साथ इनकी नजदीकियां बहुत ही ज्यादा रहीं वे हमेशा कांग्रेस पार्टी की समृद्धि के लिए कार्य करते रहे। साल 2009 में इन्होने कांग्रेस पार्टी के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा। इनकी लोकप्रियता इतनी थी कि ये बड़े अन्तराल से गुलबर्गा लोकसभा सीट से सांसद चुने गये।

मल्लिकार्जुन खड़गे को कर्नाटक राज्य से साल 2020 में राज्यसभा  के लिए चुना गया। साल 2021 में इन्हें कांग्रेस पार्टी से राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष बनाया बनाया गया। 50 वर्षों से अधिक समय से राजनीति में रहने वाले मल्लिकार्जुन खड़गे वर्तमान में राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं। इनका राजनैतिक जीवन काफी लम्बा रहा लेकिन ये आजीवन कांग्रेस के सिपाही बने रहे। कर्नाटक में इन्होने कांग्रेस की स्थिति को मजबूत किया। वह सिर्फ कर्नाटक ही नही पूरे देश में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते हैं।

आने वाले 19 अक्टूबर को कांग्रेस पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष  के नाम का एलान होना है। कांग्रेस पार्टी की ओर से एक के बाद एक बड़े नेताओं का नाम सामने आया जिसमे राहुल गाँधी, अशोक गहलोत, दिग्विजय सिंह जैसे बड़े नाम शामिल हैं। इस बीच मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरा है। माना जा रहा है कि मल्लिकार्जुन खड़गे कांग्रेस के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष हो सकते हैं। इनके कांग्रेस पार्टी से साथ रिश्ते बहुत गहरे और पुराने हैं और गाँधी परिवार के साथ इनका जुड़ाव तो काफी अच्छा रहा है ही।

खेर होगा क्या वह तो १९ ओक्टोबरर  को ही पत्ता चलेगा बने रहिये मोबाइल न्यूज़ २४ के साथ ऐसी इन्फोर्मटिवे चीज़ों से खुद को अपडेट रक्झने के लिए चॅनेल को सब्सक्राइब करे वीडियो को लिखे करे और जयादा से जायदा शेयर कीजिये
थैंक्यू


Mobile News 24

154 Blog posts

Comments