पंजाब हिमाचल रेलवे पुल टूटने के बाद अब पंजाब और जम्मू कश्मीर को जोड़ने वाले रेलवे पुल का अस्तित्व भी खतरे में

नजायज रास्ता बना कर निचे से रेत बजरी के ट्रको को निकाला जाता है

 पंजाब हिमाचल रेलवे पुल टूटने के बाद अब पंजाब और जम्मू कश्मीर को जोड़ने वाले रेलवे पुल का अस्तित्व भी खतरे में / पुल के निचे से नजायज रास्ता बना गुजरते है रेत बजरी के सेंकडो ट्रक / रेलवे विवाग आँखे मुंधे हुए  /ए डी जी पी रेलवे ने माना कि रास्ता है नजायज,रेलवे विवाग के साथ मिल कर की जाएगी जांच
 
एंकर ---------- जहां एक तरफ नजायज माइनिंग पर पंजाब सरकार सख्त नजर आ रही है वही पठानकोट जिले में शायद सरकार द्वारा की गई हिदायते लागु नहीं होती / इसी के चलते रेत बजरी को लेजाने के लिए  नजायज रास्ते का इस्तेमाल ट्रको के आने जाने के लिए किया जा रहा है / जिस से  कोई बड़ा नुकसान भी हो सकता है ऐसा ही एक नजायज रास्ता है पंजाब और जम्मू  कश्मीर को जोड़ने वाला रावी दरिया पर बनाया गया रेलवे पुल जिसके निचे से नजायज रास्ता बना कर निचे से रेत बजरी के ट्रको को निकाला जाता है लेकिन रेलवे प्रशासन ने अभी तक इसकी और कोई ध्यान नहीं दिया जबकि ए डी जी पी ने कहा की वो इस पुरे मामले की जाँच करवायेंगे 
 
व्/ओ ------------- बता दें कि कुछ महीने पहले ही पंजाब हिमाचल को जोड़ने वाला उच्च दरिया पर बना पुल भी बरसात के समय क्षतिग्रस्त हो चुका है और अब पंजाब और जम्मू कश्मीर को जोड़ने वाले रावी दरिया पर बने इस पुल का अस्तित्व खतरे में है यही नहीं इस नाजायज रास्ते के जरिए कोई शरारती आंसर भी पंजाब में दाखिल हो किसी वारदात को अंजाम दे सकता है जिस पर अभी तक प्रशासन की ओर से कोई कारवाई नही की गई है वही आज पठानकोट पहुंची एडीजीपी शशि प्रभा द्विवेदी  ने कहा कि इस पुल के नीचे से गाड़िया नही निकल सकती है ओर इस मामले को लेकर रेलवे विवाग के साथ तालमेल कर इस रास्ते को बंद करबाया जाएगा
 
बाईट--शशि प्रभा द्विवेदी (एडीजीपी रेलवे )
 

Mobile News 24

191 Blog posts

Comments